Saturday, November 8, 2008

नाज़ है तो है

हमारे प्यार पर हमको अगर कुछ नाज़ है तो है;

हमारी भी निगाहों में कहीं मुमताज़ है तो है।

दिया बनकर जले दिनरात उसकी मूर्ति के आगे,

हमारे प्यार का यह सुफिया अंदाज़ है तो है।

उमर इक खूबसूरत मोड़ पर दिल छोड़ आयी थी,

धड़कनों में उसी की गूंजती आवाज़ है तो है।

हमारा प्यार उठती हात का सौदा नहीं कोई,

बंधे अनुबंध में दुनिया अगर नाराज़ है तो है।

खुली है ज़िन्दगी अपनी कहीं परदा नहीं कोई,

अंगूठी में अगर उसका दिया पुखराज है तो है।

हमारे प्यार का आधार बालू का घरोंदा था,

हमारी आँख में वह आज तक भी ताज है तो है।

न तो समझा रदीफों को न समझे काफिये हमने,

ग़ज़ल में पर हमारा नाम 'भारद्वाज' है तो है।

चंद्रभान भारद्वाज

2 comments:

अनुपम अग्रवाल said...

उमर इक खूबसूरत मोड़ पर दिल छोड़ आयी थी,
धड़कनों में उसी की गूंजती आवाज़ है तो है।
हमारे प्यार का आधार बालू का घरोंदा था,
हमारी आँख में वह आज तक भी ताज है तो है।
मैंने कहीं सुना था ;
दिया खामोश है मगर किसी का दिल जलता है
चले आओ जहाँ तक रोशनी मालूम होती है ..
आज देखी दिए की खामोशी

Dr. Amar Jyoti said...

बहुत ख़ूब!