Saturday, October 4, 2008

बोलता है

समय का सितारा जिधर बोलता है;
उसी ओर सारा शहर बोलता है

समझाने लगा जो समय की नजाकत,
शहर की हवा देख कर बोलता है

गवाही वहां कत्ल की कौन देगा,
जहाँ चाकुओं का असर बोलता है

किया नाम उसके गगन आज सारा,
परिंदे के पर काटकर बोलता है

वो जिन्दा कभी बोलता ही नहीं था,
मरा तो कफ़न फार कर बोलता है

न बचपन ही जाना न जानी जवानी,
गुजरती उमर का सफर बोलता है

लगा हर कथन सच 'भरद्वाज उसका,
निरा झूठ भी इस कदर बोलता है

No comments: