Friday, October 3, 2008

किसका है

सजा किसको है किया किसका है;
लकीरों में जो लिखा किसका है

जड़ें थीं मेरी तना था उसका ,
फलों पर फिर हक़ बता किसका है

ग़ज़ल 'ग़ालिब' की गला 'बेगम' का,
सभा में बांधा समां किसका है

नज़र में यह थी ह्रदय में वह थी,
तपन में साया सदा किसका है

धरा है अपनी गगन है उसका,
छितिज अब सारा भला किसका है

लिफाफे में ख़त रखा है कोई,
लिखा किसको है पता किसका है

नया स्वेटर जो पहन रक्खा है,
बता ' भारद्वाज' बुना किसका है

चंद्रभान भारद्वाज

No comments: