Tuesday, May 15, 2012

लगती है

                       

कभी सीधी सरल सी राह टेढ़ी राह लगती है 
कि जैसे बात सच कोई महज अफवाह लगती है 

शरणस्थल बनी है डाकुओं की और चोरों की 
इमारत वो जो बाहर से इबादतगाह लगती है 

समझते आ रहे थे एक मंदिर लोग संसद को 
मगर वह आज नेताओं का चारागाह लगती है 

नहीं कुछ वक़्त लगता है उसे बनने में इक खंडहर
महल को जब कभी इक झोंपड़ी की आह लगती है 

चुना है वक़्त ने उसको हमारे गाँव का मुखिया 
कि जिसकी हाजिरी थाने में हर सप्ताह लगती है 

उदासी से भरी है आजकल हर ज़िन्दगी इतनी 
न कुछ उत्साह लगता है न कोई चाह लगती है 

न जाने कर दिया है उसने 'भारद्वाज' क्या जादू 
है कोसों दूर नज़रों से मगर हमराह लगती है 

चंद्रभान भारद्वाज     


2 comments:

प्रसन्न वदन चतुर्वेदी said...

अच्छे शेर...उम्दा ग़ज़ल...बहुत बहुत बधाई...

India Darpan said...

बहुत ही शानदार और सराहनीय प्रस्तुति....
बधाई
भारत के 66 वेँ स्वाधीनता दिवस की

इंडिया दर्पण
की ओर से बहुत-बहुत शुभकामनाएँ।