Saturday, May 9, 2009

हंस सब उड़ गए

सूखती झील में काइयाँ रह गईं;
हंस सब उड़ गए मछलियाँ रह गईं।

रेत सी उम्र कण कण बिखरती रही,
हाथ खाली बँधी मुट्ठियाँ रह गईं।

सत्य को बिन सुने ही अदालत उठी,
आँसुओं से लिखी अर्जियाँ रह गईं।

अब खरीदे हुए मंच के सामने,
बस ख़रीदी हुई तालियाँ रह गईं।

यह सियासत पुलिंदा बनी झूठ का,
गाँठ में गालियाँ फ़ब्तियाँ रह गईं।

अब घटाओं में पानी रहा ही नहीं,
गड़गड़ाहट रही बिजलियाँ रह गईं।

रूह तो उड़ गई जल गई देह भी,
राख के ढेर में अस्थियाँ रह गईं।

प्यार के ख़त नदी में बहाए मगर,
याद की शेष कुछ सीपियाँ रह गईं।

काट कर दिल 'भरद्वाज' लिख दी ग़ज़ल,
पर कहीं ख़म कहीं खामियाँ रह गईं।

चंद्रभान भारद्वाज

11 comments:

RAJNISH PARIHAR said...

आँसुओं से लिखी अर्जियाँ रह गईं। ....बहुत ही सुन्दर अभिवक्ति....जी यही सब होता है दुनिया में. हम खड़े रह जाते है और कारवां..गुजर जाता है...

"अर्श" said...

AB AAPKE GAZAL KE BAARE ME KYA KAHUN HAR SHE'R KABILE DAAD HAI BAHOT HI MUSHKIL KAFIYE KA NIRVAAHAN UMDAA TARIKE SE UMDAA SHAAYEER HI KAR SAKTA HAI .. DHERO BADHAAYEE AAPKO SAHIB ... KUSHAL KAAMNAA SAHIT..



ARSH

Nirmla Kapila said...

वेसे तो सारी गज़ल ही कबिले तरीफ है हर शे अर सछ का आईना दिखाता है
खरीदे हुए इस मंछ पर ख्रीदी हुई तालियां रह गयी
बहुत ही स्टीक सुन्दर अभिव्यक्ति है अभार

Mumukshh Ki Rachanain said...

सत्य को बिन सुने ही अदालत उठी,
आँसुओं से लिखी अर्जियाँ रह गईं।

रूह तो उड़ गई जल गई देह भी,
राख के ढेर में अस्थियाँ रह गईं।

दमदार ग़ज़ल के उपरोक्त शेर दिल को छू गए.

बधाई स्वीकार करें

चन्द्र मोहन गुप्त

Udan Tashtari said...

बेहतरीन! उम्दा रचा है!!

श्रद्धा जैन said...

सत्य को बिन सुने ही अदालत उठी,
आँसुओं से लिखी अर्जियाँ रह गईं।

अब खरीदे हुए मंच के सामने,
बस ख़रीदी हुई तालियाँ रह गईं।

रूह तो उड़ गई जल गई देह भी,
राख के ढेर में अस्थियाँ रह गईं।

काट कर दिल 'भरद्वाज' लिख दी ग़ज़ल,
पर कहीं ख़म कहीं खामियाँ रह गईं।


ye sabhi sher bhaut pasand aaye
aapki gazal ko padhna apne aap mein khushnaseebi hai

गौतम राजरिशी said...

बहुत सुंदर ग़ज़ल सर और खास कर ये शेर तो बहुत ही भाया है

"अब खरीदे हुए मंच के सामने,
बस ख़रीदी हुई तालियाँ रह गईं"

chandrabhan bhardwaj said...

Bhai Shri Rajnish Parihar, Arsh, Chandramohan Gupta, Samirlal ji aur Madam Nirmla Kapila avam Shraddha Jain ji aap sabhi ne mere blog par meri ghazal padi aur us par apni tippadi likhi iske liye main sabhi ka hraday se aabhaari hoon. Dhanyawad.

आचार्य संजीव वर्मा 'सलिल' said...

तालियाँ...मगर ख़रीदी हुई नहीं दिल से निकली हुई सदर समर्पित

anshuja said...

रेत सी उम्र कण कण बिखरती रही,
हाथ खाली बँधी मुट्ठियाँ रह गईं।

bahut sunder...wah!!

श्याम सखा 'श्याम' said...

अब घटाओं में पानी रहा ही नहीं,
गड़गड़ाहट रही बिजलियाँ रह गईं।
सुन्दर अभिव्यक्ति
श्याम सखा‘श्याम‘
http//:gazalkbahane.blogspot.com/ पर एक-दो गज़ल वज्न सहित हर सप्ताह या
http//:katha-kavita.blogspot.com/ पर कविता ,कथा, लघु-कथा,वैचारिक लेख पढें